एकल महिलाओं/ विधवाओं/ महिलाएं जो आय अर्जक गतिविधियों और अपनी सामाजिक-आर्थिक स्थिति में सुधार के लिए अपने परिवार की मुखिया हैं, उन्हें समर्थन करना।

पात्रता मानदंड

नारी आर्थिक सशक्तिकरण योजना के तहत लाभार्थियों को शामिल करने के लिए पात्रता मानदंड इस प्रकार होंगे:

  • आवेदक अनुसूचित जाति की होनी चाहिए।
  •  उनकी वार्षिक पारिवारिक आय समय–समय पर निर्धारित गरीबी सीमा रेखा के दुगने आय सीमा (वर्तमान में ग्रामीण क्षेत्रों के लिए  98,000/- और शहरी क्षेत्रों के लिए  1,20,000/-) से कम होनी चाहिए।
  •  आवेदक या एकल महिला (विधवा, परित्‍यक्‍ता, एकल मॉं अथवा 35 वर्ष से अधिक की एकल महिला होनी चाहिए) ।
  •  विधवा पेंशन योजना के तहत पंजीकृत सभी महिलाएं जो उक्‍त (क) और (ख) की शर्तों को पूरा करती है वे भी योजना के तहत ऋण के लिए पात्र हैं।
  •  आवेदक की आयु 25-50 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
यूनिट लागत

पात्र उम्‍मीदवार एनएसएफडीसी की किसी भी योजनाओं के तहत उन योजनाओं के लिए निर्धारित यूनिट लागत के अनुसार वित्‍तीय सहायता ले सकती है।

सहायता की प्रमात्रा

निगम, एनएसएफडीसी ऋण नीति की मियादी ऋण योजना के तहत अनुमत्‍य अनुसार प्रवर्तक के किसी अंशदान पर आग्रह किए बिना और राज्‍य चैनलाइजिंग एजेंसी द्वारा उपलब्ध कराई जा रही मार्जिन राशि एवं विशेष संघटक योजना के तहत विशेष केंद्रीय सहायता की केंद्रीय–क्षेत्र योजना के तहत गरीबी रेखा से कम पर जीवन यापन करने वाले लाभार्थियों को उपलब्‍ध कराई गई रु.10,000/- अथवा यूनिट लागत के 50%, जो भी कम है, की सब्सिडी को लेने के बाद योजना के तहत आवश्‍यकता आ‍धारित ऋण उपलब्‍ध कराएगा। योजना के तहत चयनित लाभार्थी का, यदि वे इच्‍छुक हैं, प्रतिष्ठित संस्‍थान में संबंधित वोकेशनल और उद्यमी विकास प्रशिक्षण लेने के लिए एनएसएफडीसी कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम के तहत वित्‍तीय सहायता के लिए भी चयन किया जा सकता है।
राज्‍य चैनलाइजिंग एजेंसी योजना के तहत शामिल लाभार्थियों के लिए हैंडहोल्डिंग कार्य करने के उद्देश्‍य के लिए अनुदान के रूप में प्रति यूनिट अधिकतम रु.4,000/- की सीमा में ऋण राशि का 2% उपलब्‍ध कराएगी ।
योजना के तहत, शामिल लाभार्थी प्रथम ऋण लेने के दो वर्ष के बाद व्‍यापार बढ़ाने के लिए आगे भी वित्‍तीय सहायता लेने के लिए पात्र होंगी, बशर्तें कि चुकौती नियमित हो

ब्‍याज दर

एनएसएफडीसी नारी आर्थिक सशक्तिकरण योजना (एनएएसवाई) के तहत कम ब्‍याज प्रभारित करेगा। राज्‍य चैनलाइजिंग एजेंसी से 1% वार्षिक की दर से जो लाभार्थियों से 4% वार्षिक प्रभारित करेंगे ।

चुकौती अवधि

एनएएसवाई के तहत ऋण को तिमाही किश्तों में अधिस्‍थगन काल सहित अधिकतम 10 वर्षों में चुकाना होगा। वास्‍तविक चुकौती अवधि आर्थिक कार्य के प्रकार और आय अर्जन पर आधारित होगी।

 

संशोधित: Ratikanta Jena (ratikantajena2005@yahoo.co.in)
दिनांक: 03 November, 2016