• एनएसएफडीसी, लक्ष्‍य समूह के शिक्षित बेरोजगारों जिनकी वार्षिक पारिवारिक आय गरीबी रेखा के दोगुने से नीचे (वर्तमान में ग्रामीण क्षेत्रों में रु. 98,000 और शहरी क्षेत्रों में रु.1,2,000) है, के लिए कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रमोंको प्रायोजित करता है ।
  • इन कार्यक्रमों में, प्रशिक्षुओं को मुफ्त प्रशिक्षण और प्रशिक्षण अवधि के दौरान रु.1500/- की दर से वृत्तिका प्रदान की जाती है बशर्ते कि प्रत्‍येक माह में प्रशिक्षु की उपस्थिति 90% से कम न हो ।
  • सफलतापूर्वक प्रशिक्षण की समाप्ति‍ पर, राज्‍य चैनलाइजिंग एजेंसी/चैनल भागीदारों द्वारा एनएसएफडीसी की वित्‍तीय मदद से रोजगार सहायता और/या स्‍व–उद्यम आरंभ करने के लिए उद्यमशीलता मार्गदर्शन भी दिया जाता है ।
  • कौशल प्रशिक्षण उच्‍च प्रभाव गहन श्रम क्षेत्रों जैसे कंप्‍यूटर प्रौद्योगिकी, परिधान प्रौद्योगिकी, प्‍लास्टिक प्रौद्योगिकी, खुदरा क्षेत्र, आतिथ्‍य सत्‍कार, स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल, खाद्य प्रसंसकरण आदि में प्रदान किया जाता है ।
  • एनएसएफडीसी ने 01.04.2016 से एनएसएफडीसी प्रायोजित कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रमों के कार्यान्‍वयन के लिए अपनी कौशल विकास प्रशिक्षण नीति में हाल ही में संशोधन किया है । एनएसएफडीसी की कौशल विकास प्रशिक्षण नीति-2016 में,कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय भारत सरकार द्वारा अधिसूचित सामान्‍य मानदंडो को शामिल किया गया है।
  • नई नीति के अनुसार, एनएसएफडीसी अपने प्रायोजित कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रमों को आयोजित करने के लिए सरकारी/अर्धसरकारी/ स्‍वायत्‍त संस्‍थानों और विश्‍वविद्यालयों/ मानद विश्‍वविद्यालयों को प्राथमिकता देता रहेगा । एनएसएफडीसी, प्रशिक्षण के लिए क्षेत्रीय कौशल परिषदों/क्षेत्रीय कौशल परिषद से संबद्ध प्रशिक्षण प्रदाताओं से प्राप्‍त प्रस्‍तावों अधिमान्‍यत: क्लस्‍टर विकास पर विचार कर सकता है, विशेष रूप से उन क्षेत्रों में जहां एनएसएफडीसी गैर बैकिंग कंपनी–लघु वित्‍त संस्‍थान (एनबीएफसी-एमएफआईएस) के माध्‍यम से निधियों को चैनेलाइज करेगी ।
  • जिन प्रशिक्षण संस्‍थानों के साथ एनएसएफडीसी ने वीइटीएलएस के माध्‍यम से ‘’सीखो, कमाओं और भुगतान करो’’ मॉडल के कौशल प्रशिक्षण को बढ़ावा देने के लिए समझौता सहमति (एमओए) हस्‍ताक्षरित कर रखा है, उनको प्रशिक्षण कार्यक्रमों को प्रायोजित करने में प्राथमिकता दी जाएगी।
  • संबंद्ध क्षेत्रीय कौशल परि‍षद (एसएससी) द्वारा अनुमोदित पाठ्यक्रमों को एनएसएफडीसी द्वारा प्रायोजित करने पर विचार किया जाएगा ।
संशोधित: Sapan Barua (sapanbarua7@gmail.com)
दिनांक: 24 March, 2017