खोज

धनराशि का आवंटन

1. प्रत्येक वित्तीय वर्ष के आरंभ में, एनएसएफडीसीराज्य सरणी आभकरणों के लिए संबंधित राज्य/संघ राज्य क्षेत्र प्रशासन द्वारा प्रतिनिधित्व की गई देश की अनुसूचित जाति जनसंख्या के अनुपात में धनराशि का नियतन आनुमानिकं रूप से करेगा। बदले में राज्य सरणी अभिकरणोंसे इसी सिद्धांत के अनुसार जिलेवार करना अपेक्षित है।

2. प्रत्येक वित्तीय वर्ष के लिए वास्तविक आकड़ों की तुलना में आनुमानिक नियतन की दिनांक 31 अगस्त की स्थिति के अनुसार उस वर्ष के 15 सितंबर से पहले एनएसएफडीसीद्वारा समीक्षा की जाएगी तथा यदि किसी राज्य सरणी अभिकरणद्वारा आबंटित निधियों का उपयोग नहीं किया गया हो तो उस राज्य सरणी अभिकरणके लिए उक्तिष्ट निधियां अन्य राज्य (राज्यों)/संघ राज्य क्षेत्र (क्षेत्रों) की राज्य सरणी अभिकरण (अभिकरणों) को पुनः आवंटित की जा सकंती हैं।

3.मियादी ऋण हेतु इकाई लागत

क्र. सं.
इकाई की लागत
नोशनल आबंटन का प्रतिशत
(क)
0.50 लाख रुपए तक की परियोजना लागत के लिए
30%
(ख)
0.50 लाख रुपए से अधिक तथा 1.00 लाख रुपए तक की परियोजना लागत के लिए
30%
(ग)
1.00 लाख रुपए से अधिक तथा 5.00 लाख रुपए तक की परियोजना लागत के लिए
30%
(घ)
5.00 लाख रुपए से अधिक तथा 10.00 लाख रुपए तक की परियोजना लागत के लिए
5%
(ङ)
10.00 लाख रुपए से अधिक तथा 30.00 लाख रुपए तक की परियोजना लागत के लिए
5%

4.  टिप्पणी:

  • वित्त वर्ष के आरंभ में राज्य सरणी अभिकरणको निधियों के नोशनल आबंटन के समय, कार्य योजना की प्राप्ति के बाद, निर्धारित अनुपात में रु़ 1.00 लाख तक की परियोजना लागत प्रत्येक राज्य रणी  अभिकरणों को एक लाख रुपए तक की परियोजनाओं के लिए नोशनल आबंटन के 50% के बराबर की निधि, आग्रम में राज्य रणी  अभिकरणों को निर्मुक्त की जाएगी। राज्य रणी  अभिकरणों को एनएसएफडीसीद्वारा उसकी निर्मुक्ति के 90 दिनों के अंदर इन निधियों काउपयोग प्रस्तुत करना होगा। 

  • इसके आतरिक्त, प्रत्येक राज्य सरणी अभिकरणके लिए लघु ऋण वित्त और महिला समृद्धि योजनाओं के लिए अलग से किए गए नोशनल आबंटन के 50% को इन योजनाओं के कार्यान्वयन हेतु कार्य योजना की प्राप्ति पर आग्रम में निर्मुक्ति भी किया जाएगा जिसका संवितरण की तारीख से 90 दिनों के अंदर उपयोग करना होता है। 

  • राज्य सरणी अभिकरणोंको इन निधियों की निर्मुक्ति की जाएगी बशर्तें कि, पर्याप्त सरकारी गारंटी की उपलब्धता संबंधी खंड 12.1(iii)और उपयोग निधि के 80% संतोषजनकं स्तर संबंधी खंड 12.2(i) व (ii) तथा पूर्ववर्ती वित्त वर्ष के अंत तक आतदेय राशि की अदायगी एकं वर्ष से अधिक बकाया न रहने को पूरा किया जाएगा।

5.  सामाजिकं प्राथमिकंताएँ

  • इसके अलावा, नीचे दी गई प्राथमिकताओं के अनुसार राज्य सरणी अभिकरणोंद्वारा लक्ष्य समूह को शामिल करने की कोशिश करने की अपेक्षा की जाती है।
  • शिक्षित बेरोजगार/अल्प रोजगार प्राप्त 50% 
  • महिलाएं 40% 
  • अन्य 20%

6.  क्षेत्रीय प्राथमिकंताएं

राज्य सरणी अभिकरणोंसे नीचे दी गई प्रतिशतता के अनुसार क्षेत्रीय प्राथमिकताओं को हासिल करने का प्रयास करने की अपेक्षा की जाती है।
क्षेत्र आबंटन
  • कृषि एवं संबंधित क्षेत्र 50% 
  • सेवा 40% 
  • उद्योग 10%

 

दर्शकों की गणना :