ऐसी गतिविधियों के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना जो जलवायु परिवर्तन से निपटने में सहायक हों।

पात्रता मानदंड

हरित व्‍यवसाय योजना के अंतर्गत लाभार्थियो  को शामिल करने के लिए योग्यता मानदंड इस प्रकार हैं:

(क) आवेदकों को अनुसूचित जाति का होना चाहिए।
(ख) उनकी वार्षिक पारिवारिक  आय गरीबी सीमा रेखा के दुगनी आय सीमा (डीपीएल) [वर्तमानन में ग्रामीण क्षेत्र के लिए 98,000/- रुपए वार्षिक तथा शहरी क्षेत्र के लिए 1,20,000/- रुपए वार्षिक] से अधिक नहीं होनी चाहिए।.

निर्देशात्मक  योजनाएं

   (क) बैटरी इलैक्ट्रिक वाहन (ई-रिक्शा)
   (ख)संकुचित हवा वाहन (कंप्रेस्ड एअर वाहन)
    (ग) सोलर ऊर्जा उपकरण (गैजेट्स)
   (घ) पॉली हाऊस

इकाई लागत

पात्र उम्मीदवार, इस योजना के अंतर्गत  1.00 लाख तक की इकाई लागत के लिए वित्तीय सहायता ले सकते हैं । एनएसएफडीसी इकाई लागत का 90% तक ऋण प्रदान करता है।

सहायता की प्रमात्रा

निगम, 'एनएसएफ़डीसी ऋण नीति' की मियादी ऋण योजना के तहत अनुमत्य अनुसार प्रवरतक के किसी अंशदान पर आग्रह किए बिना और राज्य चैनलाइजिंग एजेंसी द्वारा    उपलब्ध कराई जा रही मार्जिन राशि एवं विशेष संघटक योजना के तहत विशेष केंद्रीय सहायता की केंद्रीय-क्षेत्र योजना के तहत गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) जीवन यापन करने वाले लाभार्थियों को उपलब्ध कारवाई गई Rs.10,000/- अथवा यूनिट लागत के 50%, जो भी कम है, की सब्सिडी को लेने के बाद योजना के तहत आवश्‍यकता आधारित ऋण उपलब्ध कराएगा।

ब्याज दर 

एनएसएफडीसी, योजना के अंतर्गत एससीए से 1% वार्षिक की दर से ब्याज प्रभारित करेगा तथा एससीए लाभार्थी से 3% वार्षिक की दर से ब्याज प्राभारित करेंगे ।

चुकौती अवधि

योजना के तहत ऋण को तिमाँही किश्‍तों में 6 माह की अधिस्‍थगन काल सहित अधिकतम 6 वर्षों में चुकाना होगा । इसके अलावा, निधि उपयोग के लिए राज्य चैनलाइजिंग एजन्सि को 90 दिनों की अधिस्‍थगन काल अनुमत्य है।

 

संशोधित: Sapan Barua (sapanbarua7@gmail.com)
दिनांक: 03 November, 2016